---Advertisement---

Make-in-India का कायम है जलवा, सभी लैपटॉप व आईटी हार्डवेयर कंपनियां भारत में हि तैयार करेंगी अपना उत्पाद

Make-in-India का कायम है जलवा, सभी लैपटॉप व आईटी हार्डवेयर कंपनियां भारत में हि तैयार करेंगी अपना उत्पाद

Make-in-India का कायम है जलवा- दुनिया भर के पीसी मैन्युफैक्चरर सहित लगभग 44 आईटी उपकरण निर्माताओं ने लैपटॉप, टैबलेट और पर्सनल कंप्यूटर बनाने के लिए भारत में पंजीकरण करा लिया है। उम्मीद है कि देश पीएलआई के तहत आईटी हार्डवेयर निर्माण में अपनी सफलता को मोबाइल फोन के निर्माण में दोहराएगा। पूरी कहानी आगे पढ़ें..

देश में मेक-इन-इंडिया को बहुत बढ़ावा मिला है। वैश्विक पीसी निर्माताओं सहित लगभग 44 आईटी हार्डवेयर निर्माताओं ने लैपटॉप, टैबलेट और पर्सनल कंप्यूटर बनाने के लिए भारत में पंजीकरण कराया है।

Make-in-India का कायम है जलवा, सभी लैपटॉप व आईटी हार्डवेयर कंपनियां भारत में हि तैयार करेंगी अपना उत्पाद
Make-in-India का कायम है जलवा, सभी लैपटॉप व आईटी हार्डवेयर कंपनियां भारत में हि तैयार करेंगी अपना उत्पाद

PLI से हुआ फायदा

प्रोडक्शन लिंक्ड इंसेंटिव (पीएलआई) योजना के तहत, देश को आईटी हार्डवेयर उत्पादन में मिली सफलता को मोबाइल फोन विनिर्माण में दोहराने की उम्मीद है।

अधिकारी ने कहा कि-

कई प्रमुख लैपटॉप कंपनियों ने पीएलआई के लिए पंजीकरण कराया है, और कुछ किसी भी समय भारत में विनिर्माण शुरू करने के लिए तैयार हैं। वैश्विक सर्वर कंपनियां भारत को सर्वर निर्यात का केंद्र बनाने पर जोर दे रही हैं।

आखिरी तारीख 30 अगस्त तय

17,000 करोड़ रुपये की पीएलआई योजना के तहत आईटी हार्डवेयर के निर्माण के लिए 30 अगस्त की समय सीमा तय की गई है। काउंटरप्वाइंट रिसर्च के अनुसार, जून 2023 में पर्सनल कंप्यूटर सेगमेंट में लेनोवो, एचपी, डेल, ऐप्पल और एसर शीर्ष पांच कंपनियां थीं।

इसे भी पढ़ें: Stock Market Prediction: अगले हफ्ते इस स्टॉक्स से होगी बंपर कमाई

मात्र वैध लाइसेंस वाले पीसी होंगे आयात

इसके अलावा, सरकार ने 1 नवंबर से प्रतिबंधित श्रेणी में वैध लाइसेंस वाले लैपटॉप, टैबलेट और पर्सनल कंप्यूटर के आयात की अनुमति देने की योजना की घोषणा की।

कैनालिस की रिपोर्ट है कि भारतीय पीसी बाजार (डेस्कटॉप, नोटबुक और टैबलेट) में मार्च 2023 तिमाही में साल-दर-साल 35 प्रतिशत की गिरावट आई, जिसमें 3.9 मिलियन यूनिट की बिक्री हुई।

आने वाले वर्षों में पीसी का बढेगा मार्केट

कैनालिस ने टैबलेट सहित भारतीय पीसी बाजार के लिए 2024 में 11 प्रतिशत और 2025 में 13 प्रतिशत वृद्धि का अनुमान लगाया है।

डेकी इलेक्ट्रॉनिक्स के एमडी और सीआईआई नेशनल कमेटी फॉर इलेक्ट्रॉनिक्स के अध्यक्ष विनोद शर्मा ने पीटीआई को बताया कि सरकार ने आईटी हार्डवेयर पीएलआई के तहत स्थानीय रूप से निर्मित घटकों का उपयोग करने के लिए प्रोत्साहन प्रदान किया है। परिणामस्वरूप, घरेलू घटक पारिस्थितिकी तंत्र को बढ़ावा मिलेगा।

इसे भी पढ़िए: Top 5 Business Ideas: इन 5 महंगी सब्जियों से होगी लाखों की कमाई, 1500 रूपये प्रति किलों बिकता है बाज़ार में

Related Posts

Raju Yadav

मुझे इन्टरनेट जगत की तमाम खबरों को आप तक आपके भाषा में पहुँचाने में काफ़ी ख़ुशी मिलती है. आप सभी "व्यापार सीखो" के माध्यम से बिज़नेस आईडिया, फाइनेंस, ऑटो-मोबाइल्स, तकनीकी संबंधित खबरों को एकदम सरल भाषा में पढ़ सकते हैं। मुझे डिजिटल पत्रकारिता में 3 सालों का अनुभव है। संपर्क सूत्र- vyaparseekho@gmail.com

---Advertisement---

Leave a Comment

Join